logo of this websiteगीतांजली दीदी

जूता किस दिन नहीं खरीदना चाहिए


अक्सर लोगों को रविवार के दिन ही छुट्टी मिलती है और इसी दिन वह जरूरत के सामानों को खरीदने हैं लेकिन लोगों को ऐसा लगता है कि रविवार के दिन नए जूते खरीदना चाहिए या नहीं। इस समस्या के निराकरण के लिए ही इस लेख को लिखा जा रहा है। जो लोग वास्तु एवं ज्योतिष पर विश्वास रखते हैं वह लोग जूते और चप्पल को खरीदने के लिए दिन का विचार जरूर करते हैं तो ऐसे लोगों के लिए हम बताना चाहते हैं कि नए जूते खरीदने के लिए मंगलवार और सोमवार का दिन बिल्कुल भी उचित नहीं है। मंगलवार और सोमवार के दिन को छोड़कर किसी दिन भी नए जूते एवं चप्पल को खरीदा जा सकता है। इसके साथ ही ग्रहण के दिन अमावस्या और पूर्णमासी के दिन भी नए जूते और चप्पल की खरीदारी नहीं करनी चाहिए। अगर पितृ पक्ष का समय लगा हुआ है तो इन दोनों भी नए जूते और चप्पलों को नहीं खरीदना चाहिए।

पुराने जूते को क्या करना चाहिए

पुराने जूते और चप्पल अगर घर में जमा हो गए हैं तो उनसे छुटकारा पाने के लिए सबसे उत्तम दिन शनिवार का दिन माना गया है। अगर पुराने जूते और चप्पल पहनने योग्य नहीं है तो फिर ऐसे पुराने जूते और चप्पलों को घर से बाहर फेंक देना चाहिए लेकिन पुराने जूते एवं चप्पल पहने योग्य है तो फिर उन्हें किसी भी हालत में बाहर मत कीजिए बल्कि शनिवार के दिन उन्हें पहन कर किसी मंदिर में जाइए और इस मंदिर में उन चप्पलों को छोड़कर वापस चले लिए। अगर पुराने जूते चप्पल घर से बाहर फेंकने हैं तो उसके लिए भी सबसे उत्तम दिन शनिवार का दिन ही होता है।

पुराने जूते और चप्पल पहनने से शनि, राहु और केतु ग्रह नाराज होते हैं। और अगर एक बार यह तीनों ग्रहों नाराज हो गए तो फिर जीवन में बहुत प्रकार की विपदाओं का सामना करना पड़ सकता है इसलिए समय रहते ही अपने पुराने जूते एवं चप्पलों की पहचान कर कर उनसे तुरंत ही निपटारा का लेना चाहिए। और फेंकने के बजाय उन्हें दान करने के उपाय पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

जूते और चप्पलों से संबंधित कुछ सावधानियां

  1. जूते एवं चप्पलों को कभी भी उसे बिस्तर के नीचे नहीं रखना चाहिए जिस बिस्तर में कोई सोता हो। अगर कोई व्यक्ति अपने बिस्तर के नीचे जूते एवं चप्पलों को रखता है तो ऐसा व्यक्ति हमेशा स्वस्थ परेशानियों से घिरा रहता है।
  2. वास्तु शास्त्र के अनुसार जूते को मुख्य द्वार पर नहीं रखना चाहिए अगर कोई व्यक्ति अपने जूते चप्पलों को घर के मुख्य द्वार पर ही रखता है तो ऐसे व्यक्ति के विकास में बाधाए आती हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार जूते और चप्पलों को रखने का सबसे उत्तम दिशा पश्चिम या फिर दक्षिण दिशा को ही माना गया है। अगर किसी कारण से इन दिशा में जूते और चप्पलों को नहीं रखा जा सकता तब जूते और चप्पलों को रखने के लिए लकड़ी के बक्से का इस्तेमाल करें जिसे हमेशा बंद रखें।
  3. चप्पल को कभी भी खड़ा करके नहीं रखना चाहिए कई बार लोग चप्पल के पानी को सुखाने के लिए चप्पल को दीवार से टिककर खड़ा रख देते हैं यह वास्तु दोष का कारक बन सकता है इसलिए कभी भी चप्पल को खड़ा करके नहीं रखना चाहिए।
  4. घर में टूटी हुई चप्पल या फिर फटे हुए जूते को रखने से घर में दुर्भाग्य आता है।
  5. किसी भी व्यक्ति से उपहार के रूप में जूते चप्पल नहीं लेना चाहिए। ऐसा करने से गिफ्ट देने वाले व्यक्ति का दुर्भाग्य गिफ्ट लेने वाले व्यक्ति के ऊपर आ जाता है।
  6. पितृपक्ष में जूते चप्पल का दान करना बहुत ही उत्तम माना गया है ऐसा माना जाता है कि पितृपक्ष के दिन जूते का दान करने से पूर्वज प्रसन्न होते हैं इसलिए प्रत्येक वर्ष प्रतिपक्ष में जूते चप्पल का दम जरूर करना चाहिए।

Keyword :जूता किस दिन नहीं खरीदना चाहिए, पुराने जूते को क्या करना चाहिए, जूते और चप्पलों से संबंधित कुछ सावधानियां,


डिसक्लेमर- इस पोस्ट में दी गई किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की विश्वसनीयता की गारंटी हमारी वैबसाइट नहीं लेती है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से खोजकर कर इन जानकारियों को आप तक लाने का प्रयास हुआ हैं। हमारी वैबसाइट का उद्देश्य सिर्फ सूचना एवं जानकारियों को पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इस जानकारी को सिर्फ महज सूचना समझकर ही लें। इसके अलावा इस जानकारी के किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं यूजर्स की ही रहेगी। हमारी वैबसाइट का इससे कोई संबंध नहीं हैं।
Related Post
☛ दाहिने हाथ पर छिपकली का गिरना
☛ हनुमान जी की मूर्ति घर में रखनी चाहिए या नहीं
☛ रविवार को बाल धोना चाहिए कि नहीं
☛ इलेक्ट्रॉनिक सामान किस दिन खरीदना चाहिए
☛ पूजा करते समय फूल का गिरना
☛ झाड़ू कब खरीदना चाहिए
☛ जूता किस दिन नहीं खरीदना चाहिए
☛ नमक किस दिन नहीं खरीदना चाहिए
☛ घर में काली चिड़िया का आना शुभ या अशुभ
☛ मंगलवार को क्या नहीं खरीदना चाहिए

MENU
1. मुख्य पृष्ठ (Home Page)
2. व्रत एवं कथा
3. माँ और बच्चे
4. ज्योतिष शास्त्र
5. सपने का अर्थ
6. भारत का सामान्य ज्ञान
7. खेल-कूद


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by Gitanjali Didi.