logo of this websiteगीतांजली दीदी

गुड इवनिंग कब बोला जाता है


गुड इवनिंग का मतलब होता है की "शाम को अच्छा समय बीते" आम तौर पर जब कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से विदा होता है और शाम का वक्त होने वाला होता है तो वह गुड इवनिंग बोलकर विदा लेता है इसका मतलब यह है कि "आपका शाम अच्छे से बीते" या आपकी शाम अच्छी हो। बहुत से लोगों को यह संदेह होता है की गुड इवनिंग कब बोलना चाहिए तो आम तौर पर शाम को 5:00 बजे से लेकर 8:00 बजे के बीच में गुड इवनिंग बोला जाता है। अगर आप किसी व्यक्ति से शाम को 5:00 या  6:00 बजे मिल रहे हैं तो उन्हें आप गुड इवनिंग कह सकते हैं। शाम को 7:30 बजे के आसपास अगर आप किसी से मिल रहे हैं तो भी उन्हें गुड इवनिंग बोल सकते हैं लेकिन जब आप उनसे विदा होंगे तब आप गुड नाइट बोलेंगे।

उदाहरण के लिए अगर आप किसी व्यक्ति के घर 7:00 बजे मिलने जाते हैं और तब आप दोनों एक दूसरे को देखकर अभिवादन करना चाहते हैं तो आप गुड इवनिंग बोल सकते हैं।

आप सोचिए कि आप किसी के यहां शाम को 7:30 बजे तक बैठे थे अब आप वहां से अपने घर की ओर आ रहे हैं तब आप विदा लेते समय अपने मेजबान को गुड नाइट बोलेंगे भले ही साढे सात बजे हुए हैं क्योंकि 7 बजे के बाद जब भी आप किसी से विदा लेंगे तो आप उसे गुड नाइट ही बोलेंगे। लेकिन मिलते समय गुड ईवनिंग ही बोलेंगे।

इसके अलावा अगर आप किसी से 5:30 बजे के आसपास मुलाकात करके वापस आ रहे हैं तो उस समय उससे विदा लेते हुए आप उसे गुड इवनिंग बोलेंगे।

गुड इवनिंग बोलने का चलन कब से चालू हुआ है

अगर भारत की बात की जाए तो उसका जवाब है जब से ईस्ट इंडिया कंपनी भारत पर आकर यहां अपने अधिकार को जमाया और शासन किया तब से भारत में जो पढ़ा लिखा वर्ग है जिसमें विदेशी शिक्षा प्राप्त की वह लोग आपस में एक दूसरे को अभिवादन करने के लिए गुड मॉर्निंग, गुड इवनिंग और गुड नाइट जैसे शब्दों का इस्तेमाल करने लगे। लेकिन अगर इसे पश्चिमी यूरोपीय देशों के इतिहास से भी जोड़कर देखा जाए तो यह सब इंग्लैंड में सबसे पहली बार इस्तेमाल किया गया था और लगभग 14वीं शताब्दी के आसपास इस शब्द का इस्तेमाल किया जाने लगा था।

गुड इवनिंग, गुड नाइट और गुड मॉर्निंग जैसे शब्द व्यक्ति के स्वस्थ रहने संबंधी एक अभिवादन है चौदहवीं शताब्दी के आसपास इंग्लैंड में कई प्रकार के रोग-बीमारियां फैली थी जिसकी वजह से हजारों लोगों मारे गए थे, इसलिए उस समय के आसपास हर व्यक्ति एक दूसरे की स्वास्थ्य और सुरक्षा की कामना करते हुए उन्हें गुड मॉर्निंग, गुड आफ्टरनून, गुड इवनिंग या गुड नाइट जैसे अभिवादन करने लगे थे।

भारत में गुड इवनिंग का इस्तेमाल कहां होता है

भारत में गुड इवनिंग का इस्तेमाल लगभग पूरे भारत में किया जाता है लेकिन इसके स्थान निश्चित है। भारत में गुड इवनिंग और गुड नाइट जैसे शब्दों का इस्तेमाल दफ्तरों और शिक्षण संस्थानों में ही ज्यादातर किया जाता है। उत्तर भारत में तो अभी भी लोग एक दूसरे को अभिवादन करने के लिए राम-राम, हरि ओम,  जय श्री राम जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। भारत के हिंदू घरों में जब भी व्यक्ति एक दूसरे से विदा लेते हैं या फिर मिलते हैं तो वह राम-राम कहकर एक दूसरे का अभिवादन करते हैं लेकिन शिक्षण संस्थानों में या फिर कार्यालयो में आजकल अंग्रेजी शब्दों के अभिवादन का चलन काफी ज्यादा बढ़ गया है।

 

Keyword :गुड इवनिंग कब बोला जाता है, गुड इवनिंग बोलने का चलन कब से चालू हुआ है, भारत में गुड इवनिंग का इस्तेमाल कहां होता है,


Related Post
☛ पवन में कौन सा संधि है?
☛ स्वतंत्र भारत का पहला बजट किसने पेश किया
☛ मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा जिला कौन सा है
☛ गुड इवनिंग कब बोला जाता है
☛ महाराष्ट्र का सबसे बड़ा जिला कौन सा है
☛ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना कब हुई
☛ पंखा का आविष्कार किसने किया
☛ पोट्टी श्रीरामुलु कौन थे
☛ सबसे छोटा दिन कौन सा होता है
☛ सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश का कार्यकाल

MENU
1. मुख्य पृष्ठ (Home Page)
2. व्रत एवं कथा
3. माँ और बच्चे
4. ज्योतिष शास्त्र
5. सपने का अर्थ
6. भारत का सामान्य ज्ञान
7. खेल-कूद


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by Gitanjali Didi.