logo of this websiteगीतांजली दीदी

पवन में कौन सा संधि है?


पवन का अर्थ हवा या फिर वायु होता हैं। पवन का संधि पो+अन होगा। इस संधि को अयादि संधि के नाम से जाना जाता हैं। अयादि संधि स्वर संधि का एक प्रकार हैं, जब किसी वाक्य अंश के अंत मे ए,ऐ, ओ औ आए और वह किसी ऐसे वाक्य से मिले जिसका पहला अक्षर स्वर हो तो ए का रूप बदलकर अय, ऐ का रूप बदलकर आय, ओ का रूप बदलकर अव और औ का रूप बदलकर आव हो जाता हैं। अयादि संधि के पूर्ण होते ही पहले शब्द का अंतिम अक्षर और दूसरे शब्द का पहला अक्षर मे विकार आ जाता हैं।

उदाहरण के लिए

  1. नयन का संधि विच्छेद -> "ने + अन" होगा, ने मे "ए" कथन हैं, जबकि "अन" मे "अ" स्वर हैं, इसलिए जब "ए" और "अ" की संधि होगी तो दोनों कथन मे विकार आ जाएगा और उसके स्थान पर "अय" आ जाएगा।
  2. नाविक का संधि विच्छेद -> नौ + इक
  3. भवन का संधि विच्छेद -> भो + अन
  4. पवित्र का संधि विच्छेद -> पो + इत्र
  5. चयन का संधि विच्छेद -> चे + अन
  6. रावण का संधि विच्छेद -> रौ + अण
  7. हवन का संधि विच्छेद -> हो + अन
  8. गायन  का संधि विच्छेद -> गै + अन
  9. गायिका का संधि विच्छेद -> गै + इका
  10. सावन का संधि विच्छेद -> सौ + अन
  11. पवित्र का संधि विच्छेद -> पो + इत्र
  12. भावुक का संधि विच्छेद -> भौ + ऊक
  13. शयन का संधि विच्छेद -> शे + अन
  14. नयक का संधि विच्छेद -> ने + अक
  15. श्रवण का संधि विच्छेद -> श्रो + अण

 

Keyword :पवन में कौन सा संधि है?,


Related Post
☛ भारतीय जनता पार्टी के प्रथम अध्यक्ष कौन थे
☛ भारत में सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना कब हुई
☛ बल्ब का आविष्कार किसने किया था
☛ सबसे छोटा दिन कौन सा होता है
☛ माइग्रेशन सर्टिफिकेट का हिंदी अर्थ
☛ महाराष्ट्र का सबसे बड़ा जिला कौन सा है
☛ मूर्ख दिवस कब मनाया जाता है
☛ लोकसभा सीट कितनी है
☛ पोट्टी श्रीरामुलु कौन थे
☛ एक जिले में कितने एसडीएम होते हैं

MENU
1. मुख्य पृष्ठ (Home Page)
2. व्रत एवं कथा
3. माँ और बच्चे
4. ज्योतिष शास्त्र
5. सपने का अर्थ
6. भारत का सामान्य ज्ञान
7. खेल-कूद


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by Gitanjali Didi.